Tuesday, 21 May 2013

तो जीने का मज़ा क्या है ?

आँखों में कोई सपना ना हो, तो जीने का मज़ा क्या है ?
सपने के लिए बरबाद हुए, तो इसमें खता क्या है ?

लोग कहते है पागल मुझे, मेरे हालात पर हँसते हुए 
इस पागल ने कुछ कर दिखाया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

यूँ तो दर्द में आँसू निकल आते है सबके 
पर दर्द में मुस्कुराया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

यहाँ तो सब ही जीते है अपने ही लिए 
दूसरों का दर्द भुलाया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

थम जाती है साँसे हर रोज हजारों के, कुछ लोग होते है जनाजे के लिए 
अपनी मैय्यत पर लाखो को रुलाया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

7 comments:

शालिनी कौशिक said...

बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति ..मन को छू गयी .आभार . बाबूजी शुभ स्वप्न किसी से कहियो मत ...[..एक लघु कथा ] साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (22-05-2013) कितनी कटुता लिखे .......हर तरफ बबाल ही बबाल --- बुधवारीय चर्चा -1252
में "मयंक का कोना"
पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" said...

सुंदर

Kuldeep Thakur said...

मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि
आप की ये रचना 24-05-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।

Bhoopendra Jaysawal said...

आप सबका बहुत बहुत आभार !

कविता रावत said...

बहुत सुन्दर ....

Anonymous said...

Normally I do not learn post on blogs, but I would like to say that this write-up very compelled me to try and do so!
Your writing style has been amazed me. Thank you, quite great article.