featured post

एक अपील

ऐ घर पे बैठे तमाशबीन लोग लुट रहा है मुल्क, कब तलक रहोगे खामोश शिकवा नहीं है उनसे, जो है बेखबर पर तु तो सब जानता है, मैदान में क्यों नही...

Tuesday, 29 October 2013

एक अपील

3 comments:
ऐ घर पे बैठे तमाशबीन लोग
लुट रहा है मुल्क, कब तलक रहोगे खामोश
शिकवा नहीं है उनसे, जो है बेखबर
पर तु तो सब जानता है, मैदान में क्यों नहीं रहा उतर

क्या ये मुल्क तेरा नहीं,या तु यहाँ रहता नहीं
दिखा दे आज दुनिया को, जिंदा है तु मुर्दा नहीं
घर के अंदर चीखने से, कुछ भी ना बदल पायेगा
आवाज़ वही खत्म हो जायेगी ,कोई सुन भी ना पायेगा

क्यों रोकता है अपने कदम, है तुझे किसका डर
इस लुट का तो हो रहा, तेरे घर पर भी असर
बुजदिली तुझमे भरी,या मुल्क से प्यार नहीं
इंतज़ार है खुदा का,या गद्दारी में हो शामिल कहीं

हौसलेवालों पर ही बरसती है खुदा की रहमत
एक कदम बढ़ाया ही नहीं, और कोसता है अपनी किस्मत
अगर प्यार है मुल्क से, तो अदा करो इसका नमक
कन्याकुमारी से दिल्ली तक, भर दो पूरा सड़क

चलो सवाल करते है

No comments:
वर्षों से हो रही लुट पर,
रिश्वत की मिली खुली छूट पर,
दमनकारी निरंकुश शासन पर,
बेईमान निकम्मे प्रशासन पर,
चलो सवाल करते है, चलो सवाल करते है !

बढ़ रही बेरोजगारी पर,
घट रही वफ़ादारी पर,
मजदूरो के शोषण पर,
गरीब बच्चों के कुपोषण पर,
चलो सवाल करते है, चलो सवाल करते है!

गिरती शिक्षा स्तर पर,
बढ़ती महंगाई दर पर,
अस्पतालों की बदहाली पर,
किसानो की तंगहाली पर,
चलो सवाल करते है, चलो सवाल करते है!

बढते साम्प्रदायिक दंगो पर,
राजनीति में गलत हथकंडो पर,
तेजी से बढ़ते अपराध पर ,
नेताओं और गुंडों के सांठगांठ पर,
चलो सवाल करते है, चलो सवाल करते है !

सरकार की आम आदमी से बेरुखाई पर,
भ्रष्ट अफसरों की रुसवाई पर,
जब तक हर सवाल का जवाब न मिले,
एक एक पैसे का हिसाब न मिले,
चलो सवाल करते है, चलो सवाल करते है !