featured post

एक अपील

ऐ घर पे बैठे तमाशबीन लोग लुट रहा है मुल्क, कब तलक रहोगे खामोश शिकवा नहीं है उनसे, जो है बेखबर पर तु तो सब जानता है, मैदान में क्यों नही...

Tuesday, 21 May 2013

तो जीने का मज़ा क्या है ?

7 comments:
आँखों में कोई सपना ना हो, तो जीने का मज़ा क्या है ?
सपने के लिए बरबाद हुए, तो इसमें खता क्या है ?

लोग कहते है पागल मुझे, मेरे हालात पर हँसते हुए 
इस पागल ने कुछ कर दिखाया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

यूँ तो दर्द में आँसू निकल आते है सबके 
पर दर्द में मुस्कुराया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

यहाँ तो सब ही जीते है अपने ही लिए 
दूसरों का दर्द भुलाया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?

थम जाती है साँसे हर रोज हजारों के, कुछ लोग होते है जनाजे के लिए 
अपनी मैय्यत पर लाखो को रुलाया नहीं, तो जीने का मज़ा क्या है ?